0
653

पहिया (दोहा)

जिन्दगीकी राहमे लुढकत रहि पहिया,
बिना काँखे, बिन चिल्लाए सुसकत रहि पहिया ॥

सबेरोसे संझातक, किढरत रहि पहिया,
कहाँ पुगैगो पता नैया, बिन सैँताय चलत रहि पहिया॥

बकरेहरोसे गयाँरो, गयाँरोसे हरबहिया,
डीला,कटिला कुछ नाय देखय, सबके रौँथत रहे मिर भैया ॥

नाय जा को छोर हय, नाय जा को अन्त,
गोल मटोल अंग जा को, घुमत रहबय फिरि फन्ट ॥

का के तुम नाय पाए, का के ढुँढ रहे हव,
अन्त काल तक कोइ नाय चलए, काहे तडप रहे हव ॥

कुछ मिलए-ना मिलाए, किढरनो सबको धरम हय,
कुइ बाहन चढे फिरयँ, कुइ नंगे पाव, अपनो अपनो करम हय ॥

बिना ढकेले ना चलए, बिन रोके ना रुकय,
धक्का मारके अग्गु बढय, गहिरी घाट तक उखरय ॥

-पदम राना,
पचढकी कञ्चनपुर, नेपाल

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here